Thursday, 19 November 2020

Kumar Vishwas Shayari and Poetry | Kumar Vishwas Kavita in Hindi

kumar vishwas shayari

kumar vishwas shayari  

 चंद चेहरे लगेंगे अपने से , खुद को पर बेक़रार मत करना , 

आख़िरश दिल्लगी लगी दिल पर? हम न कहते थे प्यार मत करना…


 पनाहों में जो आया हो, उस पर वार क्या करना

 जो दिल हारा हुआ हो, उस पे फिर से अधिकार क्या करना


उम्मीदों का फटा पैरहन, रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है, 

तुम से मिलने की कोशिश में, किस-किस से मिलना पड़ता है….


उसी की तरहा मुझे सारा ज़माना चाहे,वो मेरा होने से ज्यादा मुझे पाना चाहे

मेरी पलकों से फिसल जाता है चेहरा तेरा,ये मुसाफिर तो कोई ठिकाना चाहे. 


 मोहब्बत का मज़ा तो, डूबने की कशमकश में है.

 जो हो मालूम गहरायी, तो दरिया पार क्या करना.


मै तेरा ख्वाब जी लून पर लाचारी है,मेरा गुरूर मेरी ख्वाहिसों पे भरी है

सुबह के सुर्ख उजालों से तेरी मांग से,मेरे सामने तो ये श्याह रात सारी है


हिम्मत ए रौशनी बढ़ जाती है, हम चिरागों की इन हवाओं से,

कोई तो जा के बता दे उस को, चैन बढता है बद्दुआओं से…


वो जो खुद में से कम निकलतें हैं,उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं

आप में कौन-कौन रहता है,हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं।


उम्मीदों का फटा पैरहन,रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है,

तुम से मिलने की कोशिश में,किस-किस से मिलना पड़ता है.


हिम्मत ए रौशनी बढ़ जाती है,हम चिरागों की इन हवाओं से,

कोई तो जा के बता दे उस को,चैन बढता है बद्दुआओं से.

kumar vishwas poetry in hindi

तुम अमर राग-माला बनो तो सही,एक पावन शिवाला बनो तो सही,

लोग पढ़ लेंगे तुम से सबक प्यार का,प्रीत की पाठशाला बनो तो सही.


   कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है

   मगर धरती की बैचेनी तो, बस बादल समझता है

  मैं तुमसे दूर कितना हु , तू मुझसे दूर कितनी है

  ये तेरा दिल समझता है , या मेरा दिल समझता है. 


 हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते

 मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते

 जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो

 जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते.


   बदलने को तो इन आखोँ के मंज़र कम नहीं बदले ,

  तुम्हारी याद के मौसम,हमारे ग़म नहीं बदले ,

  तुम अगले जन्म में हम से मिलोगी,तब तो मानोगी ,

  ज़माने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले.


   मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है

  कभी कबीरा दीवाना था, कभी  मीरा दीवानी है

  यहाँ सब लोग कहते है, मेरी आँखों में पानी है

  जो तुम समझो तो मोती है, जो ना समझो तो पानी है. 


   ये वो ही इरादें हैं, ये वो ही तबस्सुम है

  हर एक मोहल्लत में, बस दर्द का आलम है

  इतनी उदास बातें, इतना उदास लहजा ,

  लगता है की तुम को भी, हम सा ही कोई गम है.  


   बस्ती – बस्ती घोर उदासी, 

   पर्वत – पर्वत सुनापन.

   मन हीरा बेमोल लुट गया, 

  घिस -घिस रीता मन चंदन.

   इस धरती से उस अम्बर तक, 

  दो ही चीज़ गजब की है.

   एक तो तेरा भोलापन है, 

  एक मेरा दीवानापन.

Kumar Vishwas Latest Shayari 

   समंदर पीर का अन्दर है, 

  लेकिन रो नहीं सकता

  यह आंसू प्यार का मोती है,  

   इसको खो नहीं सकता.

   मेरी चाहत को दुल्हन तू,  

  बना लेना मगर सुन ले.

  जो मेरा हो नहीं पाया, 

  वो तेरा हो नहीं सकता.


   स्वयं से दूर हो तुम भी, स्वयं से दूर है हम भी

   बहुत मशहुर हो तुम भी, बहुत मशहुर है हम भी

  बड़े मगरूर हो तुम भी, बड़े मगरूर है हम भी

  अत : मजबुर हो तुम भी, अत : मजबुर है हम भी.


   हर इक खोने में हर इक पाने में ,तेरी याद आती है

   नमक आँखों में घुल जाने में तेरी याद आती है.

   तेरी अमृत भरी लहरों को क्या मालूम गंगा माँ

   समंदर पार वीराने में तेरी याद आती है.  


   घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे

   देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा ?

   मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है

  दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा.


  सखियों संग रंगने की धमकी सुनकर 

  क्या डर जाऊँगा?

  तेरी गली में क्या होगा ये मालूम है पर आऊँगा,

  भींग रही है काया सारी खजुराहो की मूरत सी,

  इस दर्शन का और प्रदर्शन मत करना, मर जाऊँगा.


   अजब है कायदा दुनिया ए इश्क का मौला

   फूल मुरझाये तब उस पर निखार आता है

   अजीब बात है तबियत ख़राब है जब से

   मुझ को तुम पे कुछ ज्यादा प्यार आता है.  


   तुम्हारा ख़्वाब जैसे ग़म को अपनाने से डरता है

   हमारी आखँ का आँसूं , ख़ुशी पाने से डरता है

  अज़ब है लज़्ज़ते ग़म भी, जो मेरा दिल अभी कल तक़

   तेरे जाने से डरता था वो अब आने से डरता है.  

kumar vishwas shayari in hindi

kumar vishwas ki shayari

   एक पहाडे सा मेरी उँगलियों पे ठहरा है

   तेरी चुप्पी का सबब क्या है?

   इसे हल कर दे

   ये फ़क़त लफ्ज़ हैं तो रोक दे रस्ता इन का

  और अगर सच है तो फिर बात मुकम्मल कर दे.  


ना पाने की खुशी है कुछ,ना खोने का ही कुछ गम है…

ये दौलत और शौहरत सिर्फ कुछ जख्मों का मरहम है…

अजब सी कशमकश है रोज जीने ,रोज मरने में…

मुक्कमल जिंदगी तो है,मगर पूरी से कुछ कम है…”


गिरेबान चेक करना क्या है सीना और मुश्किल है,

हर एक पल मुस्कुराकर अश्क पीना और मुश्किल है,

हमारी बदनसीबी ने हमें बस इतना सिखाया है,

किसी के इश्क़ में मरने से जीना और मुश्किल है.


   तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, 

   समझता हूँ.

  तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, 

  समझता हूँ.

   तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये 

  मुमकिन है नहीं लेकिन.

  तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है, 

  समझता हूँ.  


   फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है,

  ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है,

  अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में,

  कलम में शुक्र-ए- खुदा है कि रौशनाई है.


तुझ को गुरुर ए हुस्न है मुझ को सुरूर ए फ़न

दोनों को खुदपसंदगी की लत बुरी भी है

तुझ में छुपा के खुद को मैं रख दूँ मग़र मुझे

कुछ रख के भूल जाने की आदत बुरी भी है


तुम्ही पे मरता है ये दिल अदावत क्यों नहीं करता

कई जन्मो से बंदी है बगावत क्यों नहीं करता..

कभी तुमसे थी जो वो ही शिकायत हे ज़माने से

मेरी तारीफ़ करता है मोहब्बत क्यों नहीं करता..


मिले हर जख्म को मुस्कान को सीना नहीं आया

अमरता चाहते थे पर ज़हर पीना नहीं आया

तुम्हारी और मेरी दस्ता में फर्क इतना है

मुझे मरना नहीं आया तुम्हे जीना नहीं आया

kumar vishwas poetry

मेरा अपना तजुर्बा है तुम्हे बतला रहा हूँ मैं
कोई लब छू गया था तब के अब तक गा रहा हु मैं
बिछुड़ के तुम से अब कैसे जिया जाए बिना तड़पे
जो में खुद हे नहीं समझा वही समझा रहा हु मैं..


पनाहों में जो आया हो, उस पर वार क्या करना

जो दिल हारा हुआ हो, उस पे फिर से अधिकार क्या करना

मोहब्बत का मज़ा तो, डूबने की कशमकश में है

जो हो मालूम गहरायी, तो दरिया पार क्या करना


मेरे जीने मरने में, तुम्हारा नाम आएगा

मैं सांस रोक लू फिर भी, यही इलज़ाम आएगा

हर एक धड़कन में जब तुम हो, तो फिर अपराध क्या मेरा

अगर राधा पुकारेंगी, तो घनश्याम आएगा


मैं उसका हूँ वो इस एहसास से इनकार करती है

भरी महफ़िल में भी, रुसवा हर बार करती है

यकीं है सारी दुनिया को, खफा है हमसे वो लेकिन

मुझे मालूम है फिर भी मुझी से प्यार करता है


हमारे शेर सुनकर भी जो खामोश इतना है

खुदा जाने गुरुर ए हुस्न में मदहोश कितना है

किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का

जो खुद बेहोश हो वो क्या बताये होश कितना है


कोई पत्थर की मूरत है, किसी पत्थर में मूरत है

लो हमने देख ली दुनिया, जो इतनी खुबसूरत है

जमाना अपनी समझे पर, मुझे अपनी खबर यह है

तुझे मेरी जरुरत है, मुझे तेरी जरुरत है

Best Love Shayari By Dr. Kumar Vishwas

kumar vishwas poem

एक पहाडे सा मेरी उँगलियों पे ठहरा है

तेरी चुप्पी का सबब क्या है? इसे हल कर दे

ये फ़क़त लफ्ज़ हैं तो रोक दे रस्ता इन का

और अगर सच है तो फिर बात मुकम्मल कर दे


कोई कब तक महज सोचे,कोई कब तक महज गाए

ईलाही क्या ये मुमकिन है कि कुछ ऐसा भी हो जाऐ

मेरा मेहताब उसकी रात के आगोश मे पिघले

मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ वो मुझमे घुल के सो जाऐ


तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, समझता हूँ

तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, समझता हूँ

तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन

तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है, समझता हूँ


हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते

मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते

जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो

जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते


मेरा जो भी तर्जुबा है, तुम्हे बतला रहा हूँ मैं

कोई लब छु गया था तब, की अब तक गा रहा हूँ मैं

बिछुड़ के तुम से अब कैसे, जिया जाये बिना तडपे

जो मैं खुद ही नहीं समझा, वही समझा रहा हु मैं


भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा

हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा

अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का

मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा


कोई खामोश है इतना, बहाने भूल आया हूँ

किसी की इक तरनुम में, तराने भूल आया हूँ

मेरी अब राह मत तकना कभी ए आसमां वालो

मैं इक चिड़िया की आँखों में, उड़ाने भूल आया हूँ


ना पाने की खुशी है कुछ, ना खोने का ही कुछ गम है

ये दौलत और शोहरत सिर्फ, कुछ ज़ख्मों का मरहम है

अजब सी कशमकश है,रोज़ जीने, रोज़ मरने में

मुक्कमल ज़िन्दगी तो है, मगर पूरी से कुछ कम है

 कुमार विश्वास शायरी इन हिंदी

   यह चादर सुख की मोल क्यू, 

   सदा छोटी बनाता  है.

   सीरा कोई भी थामो, 

   दूसरा खुद छुट जाता है.

   तुम्हारे साथ था तो मैं,  

   जमाने भर में रुसवा था.

   मगर अब तुम नहीं हो तो,

    ज़माना साथ गाता है.


  कोई कब तक महज सोचे,

  कोई कब तक महज गाए.

  ईलाही क्या ये मुमकिन है कि 

  कुछ ऐसा भी हो जाऐ.

  मेरा मेहताब उसकी रात के 

  आगोश मे पिघले

  मैँ उसकी नीँद मेँ जागूँ 

  वो मुझमे घुल के सो जाऐ.


   तुझ को गुरुर ए हुस्न है 

  मुझ को सुरूर ए फ़न.

  दोनों को खुद पसंदगी की 

  लत बुरी भी है.

   तुझ में छुपा के खुद को 

   मैं रख दूँ मग़र मुझे.

   कुछ रख के भूल जाने की 

  आदत बुरी भी है.


सब अपने दिल के राजा है, सबकी कोई रानी है

भले प्रकाशित हो न हो पर सबकी कोई कहानी है

बहुत सरल है किसने कितना दर्द सहा

जिसकी जितनी आँख हँसे है, उतनी पीर पुराणी है


पनाहों में जो आया हो तो उस पर वार क्या करना

जो दिल हारा हुआ हो उस पे फिर अधिकार क्या करना

मुहब्बत का मजा तो डूबने की कशमकश में है

हो ग़र मालूम गहराई तो दरिया पार क्या करना।

kumar vishwas ki shayari

कुमार विश्वास शायरी इन हिंदी

सदा तो धूप के हाथों में ही परचम नहीं होता

खुशी के घर में भी बोलों कभी क्या गम नहीं होता

फ़क़त इक आदमी के वास्तें जग छोड़ने वालो

फ़क़त उस आदमी से ये ज़माना कम नहीं होता।


स्वंय से दूर हो तुम भी स्वंय से दूर है हम भी

बहुत मशहूर हो तुम भी बहुत मशहूर है हम भी

बड़े मगरूर हो तुम भी बड़े मगरूर है हम भी

अतः मजबूर हो तुम भी अतः मजबूर है हम भी


नज़र में शोखिया लब पर मुहब्बत का तराना है

मेरी उम्मीद की जद़ में अभी सारा जमाना है

कई जीते है दिल के देश पर मालूम है मुझकों

सिकन्दर हूं मुझे इक रोज खाली हाथ जाना है।


हमने दुःख के महासिंधु से सुख का मोती बीना है

और उदासी के पंजों से हँसने का सुख छीना है

मान और सम्मान हमें ये याद दिलाते है पल पल

भीतर भीतर मरना है पर बाहर बाहर जीना है।


कोई मंजिल नहीं जंचती, सफर अच्छा नहीं लगता

अगर घर लौट भी आऊ तो घर अच्छा नहीं लगता

करूं कुछ भी मैं अब दुनिया को सब अच्छा ही लगता है

मुझे कुछ भी तुम्हारे बिन मगर अच्छा नहीं लगता।


वो जिसका तीरे छुपके से जिगर के पार होता है

वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है

किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से

यहां खत भी जरा सी देर में अखबार होता है।

Kumar Vishwas Kavita

घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे

देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा

मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है

दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा।


 हमारे शेर सुनकर भी जो खामोश इतना है,

  खुदा जाने गुरुर ए हुस्न में मदहोश कितना है.

  किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का,

  जो खुद बेहोश हो वो क्या बताये होश कितना है.  


   ना पाने की खुशी है कुछ, 

  ना खोने का ही कुछ गम है.

  ये दौलत और शोहरत सिर्फ, 

  कुछ ज़ख्मों का मरहम है.

  अजब सी कशमकश है,

  रोज़ जीने, रोज़ मरने में.

  मुक्कमल ज़िन्दगी तो है, 

  मगर पूरी से कुछ कम है. 


   मेरे जीने मरने में, 

  तुम्हारा नाम आएगा.

  मैं सांस रोक लू फिर भी, 

  यही इलज़ाम आएगा.

  हर एक धड़कन में जब तुम हो, 

  तो फिर अपराध क्या मेरा,

  अगर राधा पुकारेंगी, 

  तो घनश्याम आएगा.  


कहीं पर जग लिए तुम बिन, 

कहीं पर सो लिए तुम बिन.

भरी महफिल में भी अक्सर, 

अकेले हो लिए तुम बिन

ये पिछले चंद वर्षों की कमाई साथ है अपने

कभी तो हंस लिए तुम बिन, कभी तो रो लिए तुम बिन.

कुमार विश्वास शायरी इन हिंदी

kumar vishwas poem

Famous Shayari Of Dr. Kumar Vishwas

गिरेबां चाक करना क्या है, 

सीना और मुश्किल है.

हर एक पल मुस्कुरा के, 

अश्क पीना और मुश्किल है.

हमारी बदनसीबी ने, 

   हमें इतना सीखाया है.

   किसी के इश्क में मरने से, 

  जीना और मुश्किल है.


   क़लम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा,

  गिरेबां अपना आँसू में भिगोता हूँ तो हंगामा.

  नहीं मुझ पर भी जो खुद की ख़बर वो है ज़माने पर,

  मैं हँसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा. 


   भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा

   हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा

   अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का

   मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा.


   कोई पत्थर की मूरत है, किसी पत्थर में मूरत है

   लो हमने देख ली दुनिया, जो इतनी खुबसूरत है

   जमाना अपनी समझे पर, मुझे अपनी खबर यह है

    तुझे मेरी जरुरत है, मुझे तेरी जरुरत है. 

Famous Shayari Of Dr. Kumar Vishwas 

   इस उड़ान पर अब शर्मिंदा, 

  में भी हूँ  और तू भी है.

  आसमान से गिरा परिंदा,

   में भी हूँ  और तू भी है.

  छुट गयी रस्ते में, 

  जीने मरने की सारी कसमे.

 अपने - अपने हाल में जिंदा, 

 में भी हूँ और तू भी है.


तुम्हारा ख़्वाब जैसे ग़म को अपनाने से डरता है

हमारी आखँ का आँसूं , ख़ुशी पाने से डरता है

अज़ब है लज़्ज़ते ग़म भी, जो मेरा दिल अभी कल तक़

तेरे जाने से डरता था वो अब आने से डरता है


हर इक खोने में हर इक पाने में तेरी याद आती है

नमक आँखों में घुल जाने में तेरी याद आती है

तेरी अमृत भरी लहरों को क्या मालूम गंगा माँ

समंदर पार वीराने में तेरी याद आती है

Check Also - 

No comments:

Post a comment