Thursday, 19 November 2020

kumar vishwas shayari    चंद चेहरे लगेंगे अपने से , खुद को पर बेक़रार मत करना ,  आख़िरश दिल्लगी लगी दिल पर? हम न कहते थे प्यार मत करना…  पनाहो...